‘भुज: द प्राइड ऑफ इंडिया’ कि असली कहानी, रणछोड़ दास पागी का जीवन परिचय.

Bhuj: ‘भुज: द प्राइड ऑफ इंडिया’ का ट्रेलर देखा? यहां भुज की 300 गांव की महिलाओं की वास्तविक कहानी है, जिन्होंने भारत-पाक युद्ध के दौरान दुश्मन के जेट विमानों द्वारा क्षतिग्रस्त हवाई पट्टी को पुनर्जीवित करने के लिए कदम बढ़ाया।

भुज – द प्राइड ऑफ इंडिया, 11 अगस्त 2021 को सिनेमाघरों में हिट होने के लिए पूरी तरह तैयार है। अजय देवगन, संजय दत्त और सोनाक्षी सिन्हा अभिनीत, कहानी उन सैकड़ों गाँव की महिलाओं की वीरता को समेटे हुए है, जिन्होंने जरूरत पड़ने पर अपने देश के लिए कदम बढ़ाया। सबसे।

लेकिन क्या आप जानते हैं फिल्म के पीछे की असली कहानी?

‘भुज: द प्राइड ऑफ इंडिया’ कि असली कहानी?

1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान , भुज में भारतीय वायुसेना की हवाई पट्टी युद्ध में नष्ट हो गई थी। इसके बाद, IAF स्क्वाड्रन लीडर विजय कार्णिक के नेतृत्व में 300 स्थानीय महिलाओं ने एयरबेस के पुनर्निर्माण के लिए दिन-ब-दिन वीरतापूर्वक काम किया।

women in bhuj
‘भुज: द प्राइड ऑफ इंडिया’ कि असली कहानी?

8 दिसंबर 1971 को, भारत-पाक युद्ध के दौरान, दुश्मन के जेट विमानों के एक स्क्वाड्रन ने भारतीय वायु सेना की पट्टी पर 14 नेपलम बम गिराए। प्रभाव से रनवे क्षतिग्रस्त हो गया और फाइटर जेट उड़ान नहीं भर सके। जैसे-जैसे समय बीत रहा था, सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने इसकी मरम्मत के लिए कदम बढ़ाया, लेकिन मजदूरों की कमी थी। इस समय, भुज के माधापुर गाँव के 300 लोगों, मुख्य रूप से महिलाओं ने अपने देश की सेवा के लिए कदम बढ़ाया।

महिलाओं ने अपने परिवेश के साथ छलावरण के लिए पीली हरी साड़ी पहनी और हवाई पट्टी को ठीक करने के लिए दिन-रात मेहनत की। जब भी भारतीय वायुसेना को दुश्मन के हमले का आभास होता, एक अलार्म बज उठता और सभी तुरंत झाड़ियों के नीचे शरण ले लेते।

चौथे दिन, हवाई पट्टी अंततः कार्य कर रही थी, और एक IAF लड़ाकू विमान ने उड़ान भरी।

इन बहादुर महिलाओं में से एक, वलबाई सेघानी ने बाद में अपने अनुभव को याद किया और कहा, “हम यह सुनिश्चित करने के लिए दृढ़ थे कि हमारे पायलट यहां से उड़ान भर सकें। अगर हम मर जाते, तो यह एक सम्मानजनक मौत होती।”

भुज: द प्राइड ऑफ इंडिया-Bhuj

रणछोड़ दास पागी का जीवन परिचय (Ranchod Das Pagi Biography)

Ranchhod Pagi Fight With Pakistani Army (Who was Ranchod Das Pagi?)
कच्छ के रण में अकेले रणछोड़ पागी पाकिस्तानी सेना पर भारी पड़ गए थे

Ranchod Das Pagi Biography
रणछोड़ दास पागी का जीवन परिचय (Ranchod Das Pagi Biography) Bhuj

कौन थे रणछोड़दास रबारी, जिनके नाम पर बनाई गई एक बॉर्डर पोस्‍ट. 2008 फ़ील्ड मार्शल मानेक शॉ वेलिंगटन (तमिलनाडु) अस्पताल में भर्ती थे। गंभीर अस्वस्थता और अर्धमूर्छा में वे एक नाम अक्सर लेते थे – “पागी-पागी !” डाक्टरों ने एक दिन पूछ दिया “सर हू इज़ दिस पागी?” (Who was Ranchod Das Pagi?)

कौन थे रणछोड़दास पागी भुज द प्राइड ऑफ इंडिया फिल्म में संजय दत्त रणछोड़ दास पागी का किरदार निभा रहे हैं।

कौन थे रणछोड़दास पागी?

Who was Ranchod Das Pagi – रणछोड़ दास पागी का जन्म गुजरात के बनासकांठा में एक आम परिवार में हुआ था. बनासकांठा पाकिस्तान की सीमा से लगा हुआ गाँव है. रणछोड़ दास के परिवार के लोग भेड़, बकरी और ऊंट पालकर अपना गुज़ारा करते थे. रणछोड़ दास भी अपने परिवार के लोगों के साथ यहीं काम करने लगा. रणछोड़ दास ने अपने बचपन से लेकर जवानी भेड़, बकरी और ऊंट पालने में ही गुजार दी.

रणछोड़दास पागी ने 1200 पाकिस्तानियों को ढूंढ निकाला

रणछोड़ दास पागी ने अपने खूबी के बदौलत उन्होंने कच्छ में छिपे 1200 पाकिस्तानियों को ढूंढ निकाला था। 1965 के अलावा उन्होंने साल 1971 के युद्ध में भी भारतीय सेना की मदद की थी। तत्कालीन सेनाध्यक्ष एस.एफ.एम.जे मानेकशॉ ने भी उनके काम की तारीफ की थी। साल 2013 में 113 साल की उम्र में रणछोड़ दास का निधन हो गया था। निधन के बाद सुईगाम की बीएसएफ बॉर्डर को रणछोड़ दास बॉर्डर का नाम दिया गया था।

रणछोड़दास पागी Bhuj
1200 पाकिस्तानियों को ढूंढ निकाला था Bhuj

1965 के युद्ध में गुजरात के कच्छ सीमा पर स्थित विधाकोट बॉर्डर से पाकिस्तानी सेना ने हमला कर दिया था। रणछोड़ दास पागी इस इलाके के चप्पे-चप्पे से वाकिफ थे। उनकी खासियत थी कि वे पैर के निशान को अच्छी तरह से जानते-समझते थे। यही नहीं, पैर के निशान देखकर ऊंट पर कितने लोग सवार थे, ये तक बता देते थे। इसके अलावा पैर के निशान से वे व्यक्ति की उम्र और कितना वजन उठा रखा है तक बता देते थे।

रणछोड़ दास पागी को मिला था राष्ट्रपति अवॉर्ड

रणछोड़ दास पागी को भारत-पाकिस्तान युद्ध में मदद के लिए राष्ट्रपति अवार्ड भी दिया गया। इसके अलावा उनके इस साहस को राजभा गढ़वी ने उनकी रणबंकों रबारी लोक गीत में गाया जाता है।

आपको बता दें कि फिल्म भुज द प्राइड ऑफ इंडिया में संजय दत्त के किरदार का नाम रणछोड़ राबरी रखा गया है। फिल्म में अजय देवगन, संजय दत्त के अलावा सोनाक्षी सिन्हा, नोरा फतेही, प्रनीता सुभाष और शरद केलकर अहम रोल में हैं

Ranchoddas Pagi Bhuj the pride of India: भुज द प्राइड ऑफ इंडिया में संजय दत्त रणछोड़ दास पागी का किरदार निभा रहे हैं। रणछोड़दास ने 65 और 1971 के युद्ध में भारतीय सेना की मदद की थी।

सर हू इज़ दिस पागी जनरल मानेक शॉ ढाका ने आदेश क्यों दिया?

Who was Ranchod Das Pagi- 1971 भारत युद्ध जीत चुका था, जनरल मानेक शॉ ढाका में थे। आदेश दिया कि पागी को बुलवाओ, डिनर आज उसके साथ करूँगा। हेलिकॉप्टर भेजा गया। हेलिकॉप्टर पर सवार होते समय पागी की एक थैली नीचे रह गई, जिसे उठाने के लिए हेलिकॉप्टर वापस उतारा गया था। अधिकारियों ने नियमानुसार हेलिकॉप्टर में रखने से पहले थैली खोल कर देखी तो दंग रह गए क्योंकि उसमें दो रोटी, प्याज और बेसन का एक पकवान (गाठिया) भर था। डिनर में एक रोटी सैम साहब ने खाई और दूसरी पागी ने।

उत्तर गुजरात के सुईगांव अंतर्राष्ट्रीय सीमा क्षेत्र की एक बॉर्डर पोस्ट को रणछोड़दास पोस्ट नाम दिया गया। यह पहली बार हुआ कि किसी आम आदमी के नाम पर सेना की कोई पोस्ट हो साथ ही उनकी मूर्ति भी लगाई गई।

रणछोड़ दास पागी का कितनी आयु में पागी का निधन हो गया

रणछोड़ दास पागी को तीन सम्मान भी मिले 65 व 71 युद्ध में उनके योगदान के लिए संग्राम पदक, पुलिस पदक व समर सेवा पदक।
27 जून 2008 को सैम मानिक शॉ की मृत्यु हुई और 2009 में पागी ने भी सेना से ‘स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति’ ले ली। तब पागी की उम्र 108 वर्ष थी। जी हाँ! आपने सही पढ़ा….. 108 वर्ष की उम्र में ‘स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति’! सन् 2013 में 112 वर्ष की आयु में पागी का निधन हो गया ।

दोस्तों हमें उम्मीद है कि आपको हमारे भुज: द प्राइड ऑफ इंडिया के बारे में अद्भुत जानकारी अवश्य पसंद आई होगी।

तो Technology Magan YouTube channel ko subscribe करें और टेक्नोलॉजी मगन ब्लॉक के साथ हमेशा बने रहे।

अपने दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करें मिलते हैं अगले नए आर्टिकल के साथ….

धन्यवाद

READ MORE: अंटार्कटिका के 14 रहस्य जानकर आप रह जाएंगे हैरान

READ MORE: Earth Planet: पृथ्वी को अद्भुत ग्रह क्यों कहा जाता है

5 thoughts on “‘भुज: द प्राइड ऑफ इंडिया’ कि असली कहानी, रणछोड़ दास पागी का जीवन परिचय.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: